Kabir Vani

Kabir Vani


Kabir Ke Dohe, Kabir vani.
In Hindi fonts and English translation with meaning.
Simple to read and easy interface.
संत शिरोमणि कबीरदास ने अपने दोहों के माध्यम से जनता में अपनी आवाज पहुंचाने के बेहतरीन कोशिश की. संत कबीर के दोहे लोकभाषा में होते थे और इन्हें समझना बेहद आसान होता था. कबीर के दोहे में जो मर्म वह किसी की भी जिंदगी पल में बना सकती है.
This app has rich vast collection of kabir Verses with meanings.
Kabir ranks among the world's greatest poets. Back home in India, he is perhaps the most quoted author. The Holy Guru Granth Sahib contains over 500 verses by Kabir. The Sikh community in particular and others who follow the Holy Granth, hold Kabir in the same reverence as the other ten Gurus.
जैसा भोजन खाइये , तैसा ही मन होय
जैसा पानी पीजिये, तैसी वाणी होय
जैसा भोजन करोगे, वैसा ही मन का निर्माण होगा और जैसा जल पियोगे वैसी ही वाणी होगी अर्थात शुद्ध-सात्विक आहार तथा पवित्र जल से मन और वाणी पवित्र होते हैं इसी प्रकार जो जैसी संगति करता है वैसा ही बन जाता है।
Aisee Vani Boliye, Mun Ka Aapa Khoye
Apna Tan Sheetal Kare, Auran Ko Sukh Hoye
Translation
Speak such words, sans ego's ploy
Body remains composed, giving the listener joy
Add to list
Free
85
4.3
User ratings
408
Installs
10,000+
Concerns
1
File size
2044 kb
Screenshots
Screenshot of Kabir Vani Screenshot of Kabir Vani Screenshot of Kabir Vani Screenshot of Kabir Vani Screenshot of Kabir Vani

About Kabir Vani
Kabir Ke Dohe, Kabir vani.
In Hindi fonts and English translation with meaning.
Simple to read and easy interface.
संत शिरोमणि कबीरदास ने अपने दोहों के माध्यम से जनता में अपनी आवाज पहुंचाने के बेहतरीन कोशिश की. संत कबीर के दोहे लोकभाषा में होते थे और इन्हें समझना बेहद आसान होता था. कबीर के दोहे में जो मर्म वह किसी की भी जिंदगी पल में बना सकती है.
This app has rich vast collection of kabir Verses with meanings.
Kabir ranks among the world's greatest poets. Back home in India, he is perhaps the most quoted author. The Holy Guru Granth Sahib contains over 500 verses by Kabir. The Sikh community in particular and others who follow the Holy Granth, hold Kabir in the same reverence as the other ten Gurus.
जैसा भोजन खाइये , तैसा ही मन होय
जैसा पानी पीजिये, तैसी वाणी होय
जैसा भोजन करोगे, वैसा ही मन का निर्माण होगा और जैसा जल पियोगे वैसी ही वाणी होगी अर्थात शुद्ध-सात्विक आहार तथा पवित्र जल से मन और वाणी पवित्र होते हैं इसी प्रकार जो जैसी संगति करता है वैसा ही बन जाता है।
Aisee Vani Boliye, Mun Ka Aapa Khoye
Apna Tan Sheetal Kare, Auran Ko Sukh Hoye
Translation
Speak such words, sans ego's ploy
Body remains composed, giving the listener joy

Visit Website
User reviews of Kabir Vani
Write the first review for this app!
Android Market Comments
A Google User
Sep 14, 2014
Harshad Jay satnam
A Google User
Sep 13, 2014
Like life Dev developed
A Google User
Sep 12, 2014
Truly Amezing This app gives me true knowlegde of Kabir
A Google User
Sep 8, 2014
Thanks
A Google User
Sep 6, 2014
Super